सर्वोच्च अदालत का दिल्ली सरकार के पक्ष में फैसला

उपराज्यपाल मंत्री परिषद द्वारा सहायता और सलाह पर कार्य करने के लिए बाध्य हैं।
उपराज्यपाल मंत्री परिषद द्वारा सहायता और सलाह पर कार्य करने के लिए बाध्य हैं।
नई दिल्ली। सर्वोच्च न्यायालय ने बुधवार को आम आदमी पार्टी के नेतृत्व वाली दिल्ली सरकार के पक्ष में फैसला सुनाया और कहा कि उपराज्यपाल मंत्री परिषद द्वारा सहायता और सलाह पर कार्य करने के लिए बाध्य हैं।
दरअसल, दिल्ली सरकार ने हाईकोर्ट के उस फैसले को सुप्रीम कोर्ट में चुनौती दी थी, जिसमे कहा गया था कि उपराज्यपाल के पास फैसले लेने की समस्त शक्तियां है। याचिका में दिल्ली की चुनी हुई सरकार और उपराज्यपाल के अधिकार स्पष्ट करने का आग्रह किया गया। इस पर
दिल्ली का असली बॉस कौन है, यह सुप्रीम कोर्ट ने तय कर दिया है। कोर्ट ने सुनवाई करते हुए कहा कि उपराज्यपाल राज्य सरकार को सिर्फ सलाह दे सकते हैं न कि फैसले रोक सकते हैं। तीन जजों की पीठ ने मिलकर कहा कि कैबिनेट के साथ मिलकर उपराज्यपाल काम करें।
सुप्रीम कोर्ट ने कहा कि जनता द्वारा चुनी गई सरकार ही दिल्ली चलाएगी। फैसलों पर उपराज्यपाल की सहमति जरूरी नहीं है। चुनी सरकार के पास ही असली ताकत है। उपराज्यपाल फैसले अटकाकर नहीं रख सकते हैं।
सर्वोच्च अदालत ने आम आदमी पार्टी के नेतृत्व वाली सरकार के पक्ष में फैसला सुनाते हुए कहा कि उपराज्यपाल मंत्रीपरिषद की सहायता और सलाह पर कार्य करने के लिए बाध्य हैं। अदालत ने कहा कि उपराज्यपाल किसी खास मामले में विचार के मतभेदों की स्थिति में राष्ट्रपति को फाइल भेजने के लिए भी बाध्य हैं। इसके अलावा उपराज्यपाल एक ‘अवरोधक’ के रूप में कार्य नहीं कर सकते हैं।
सर्वोच्च न्यायालय ने कहा कि उपराज्यपाल और दिल्ली सरकार को सामंजस्यपूर्ण तरीके से काम करना होगा। उपराज्यपाल को यह महसूस करना चाहिए कि मंत्रिपरिषद लोगों के प्रति जवाबदेह हैं और वह राष्ट्रीय राजधानी क्षेत्र (एनसीटी) की सरकार के हर निर्णय को रोक नहीं सकते हैं।
केजरीवाल सरकार की ओर से वकील गोपाल सुब्रमण्यम, पी. चिदंबरम, राजीव धवन, इंदिरा जयसिंह और शेखर नाफड़े ने अपना पक्ष रखा। केन्द्र सरकार का पक्ष एडीशनल सालिसिटर जनरल मनिंदर सिंह ने रखा था। यदि आप चाहते हैं कि देश—दुनिया की छोटी—बड़ी हर खबर से अपडेट रहें तो आज ही हिन्दी साप्ताहिक समाचार पत्र ‘‪#‎आधुनिकदुनिया‬’ के पेज के लिंक पर जाकर पेज को like (लाइक) करें और खुद को रखें अपडेट।
https://www.facebook.com/pages/Adhunik-Duniya/1412838905648698
खबरों के लिए यह भी देखें=
www.adhunikduniya.in
www.adhunikduniya.blogspot.com

You May Also Like

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *