असम, केरल में कांग्रेस से छीना ताज, जया और ममता की सत्ता पर मजबूत हुई पकड़

 बंगाल में तृणमूल की जीत का जश्न मनाते पार्टी कार्यकर्ता

बंगाल में तृणमूल की जीत का जश्न मनाते पार्टी कार्यकर्ता

विधान सभा चुनाव नतीजे-ममता के लिये बेहद अच्छे, भाजपा, जयललिता के लिये अच्छे, कॉग्रेस के लिये बेहद खराब

नयी दिल्ली, 19 मई। देश के चार राज्यों में संपन्न विधानसभा चुनाव में नया रिकार्ड दर्ज करते हुए असम में जीत के साथ ही भाजपा ने पहली बार किसी पूर्वोत्तर राज्य में सत्ता हासिल की तो वही असम और केरल की सत्ता कांग्रेस के हाथों फिसल गयी। दूसरी ओर तमिलनाडु में तमाम चुनावी आकलनों के विपरीत जयललिता की अगुवाई में अन्नाद्रमुक और उधर पश्चिम बंगाल में ममता बनर्जी की तृणमूल कांग्रेस दूसरी बार भारी बहुमत के साथ सत्ता में आ गयीं।

पश्चिम बंगाल, तमिलनाडु, असम, केरल और पुदुच्चेरी विधानसभा चुनाव के नतीजों में पूर्वोत्तर राज्य असम में पहली बार भाजपा का कमल खिल गया है, प. बंगाल में ममता की आंधी चली, जिनसे अपने पक्ष मे हवा होने की उम्मीद कर रही खुद पार्टी इस ऑधी से हैरान है, जबकि तमिलनाडु मे जयललिता एक नया रिकार्ड बना कर फिर क्वीन बनी है और असम के साथ केरल और पुद्दुचेरी मे भी कांग्रेस हार गयी है।

आज सबसे अच्छी खबर प. बंगाल के ममता बनर्जी नीत तृण मूल पार्टी के लिये रही। उन्हें तमाम कयासों से अलग हट कर आशा से कही अधिक या यूं कहे पिछली बार से भी ज्यादा मत मिले। भारतीय जनता पार्टी के लिये भी चुनाव नतीजे कुल मिला कर अच्छे रहे। असम में उन्होंने कॉग्रेस को सत्ता से हटा कर असम में पहली बार कमल खिला लिया। तमिलनाडु के मतदाताओं ने भी वहां के चुनावी गणित से अलग हट कर एक अलग रास्ता अख्त्यार करते हुए जयललिता की पार्टी को दोबारासत्ता नशीं किया इन चुनावों के लिये सबसे बुरी खबर कॉग्रेस के लिये रही। उसके हाथ से असम, केरल और पुद्दुचेरी तीनो राज्य निकल गये। इस चुनाव मे तमिलनाडु के मतदाताओ ने भी वहा के चुनावी गणित से अलग हट कर एक अलग सा रास्ता अख्त्यार करते हुए जयललिता की पार्टी को दोबारासत्ता नशीं किया। शायद इसे के चलते दक्षिण भारत में जयललिता ने करुणानिधि को पछाड़ने के बाद जीत का दावा करते हुए कहा कि द्रमुक के परिवार की राजनीति का अंत हो गया है। वहीं दूसरी ओर 34 साल के वाम दल का सफाया कर चुकीं ममता बनर्जी ने एक बार फिर सत्ता पर न केवल कब्जा किया बल्कि तमाम कयासों से अलग हट कर पिछली बार से कही ज्यादा मत हासिल किये है। आक्रामक चुनावी तेवर के बाद आज जीत के बाद संयत स्वर मे ममता ने कहा कि मेरी पार्टी के खिलाफ दिल्ली से लेकर कोलकाता तक षडयंत्र रचा गया। झूठा कैंपेन चलाया गया लेकिन मैंने इस झूठे कैंपेन को महत्व नहीं दिया और मेरा ध्यान अर्जुन की तरह लक्ष्य पर केंद्रित था। उन्होंने किसी पार्टी का नाम लिये बिना कहा कि हम पर इस तरह से आरोप लगाये जा रहे थे जैसे हमारे पास मैंडेट है ही नहीं।

counting_adhunikduniya.inइधर, मतगणना में असम में भाजपा के बडी जीत की ओर बढने के बीच प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने इसे ‘ऐतिहासिक’ और ‘अभूतपूर्व’ करार दिया है। उन्होंने कहा कि पार्टी राज्य के लोगों की आशाओं और आकांक्षाओं को पूरा करने के लिए हर संभव प्रयास करेगी और राज्य को विकास की नई उंचाइयों तक ले जायेगी। उन्होंने पश्चिम बंगाल और तमिलनाडु में भाजपा कार्यकर्ताओं के प्रयासों की सराहना की और कहा कि इन दोनों राज्यों में भी पार्टी ने ‘संकल्पबद्ध’ प्रदर्शन किया।

मोदी ने कहा, ‘पूरे देश में लोगों ने भाजपा पर भरोसा जताया और इसे एक ऐसी पार्टी के रुप में देखा जो समग्र और समावेशी विकास कर सकती है। ‘भाजपा अध्यक्ष अमित शाह ने कहा कि पार्टी कार्यकर्ताओं के अथक प्रयासों और योगदान ने केरल, पश्चिम बंगाल और तमिलनाडु में पार्टी का जनाधार मजबूत किया है।

केरल और पुदुच्चेरी से कांग्रेस के लिए बुरी खबर आने के बाद पार्टी निराश है हालांकि पार्टी उपाध्यक्ष राहुल गांधी ने चुनाव परिणाम के बाद कहा कि हम विनम्रता के साथ लोगों का फैसला स्वीकार करते हैं, लोगों का विश्वास जीतने तक कडी मेहनत करते रहेंगे। उन्होंने कहा कि मैं चुनाव जीतने वाले दलों को शुभकामनाएं देता हूं। वहीं केरल के मुख्यमंत्री ओमन चांडी ने कहा कि परिणाम एक झटका और अप्रत्याशित हैं।

यदि आप चाहते हैं कि देश—दुनिया की छोटी—बड़ी हर खबर से अपडेट रहें तो आज ही हिन्दी साप्ताहिक समाचार पत्र ‘‪#‎आधुनिकदुनिया‬’ के पेज के लिंक पर जाकर पेज को like (लाइक) करें और खुद को रखें अपडेट।

You May Also Like

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *